तुलसी के फायदे ,उपयोग ,औसधीयगुण – Tulsi ke Fayde – No 1 Best टिप्स

Tulsi ke Fayde :

तो फ़्रेंड्स आज हम यह आर्टिकल मै बात करने जा रहे हैं की तुलसी क्या है ? उसका क्या फाइदा है । उसको सेबन करना चाहिए की नही , अगर सेबन करे तो कैसे करे , किस के साथ सेबन करे और किस समय मै करे । और फिर बहत लोगों के मन मै आता होगा की तुलसी का सेबन हम क्यूँ करे । तो आप के इतने सारे सबाल का उतर आज आपको यह आर्टिकल मै मिल जाएगा ।

तुलसी एक एसा चीज है ज की सुन ने मै भी बहत मधुर लगता है और तुलसी को हिन्दू धर्म मै बहत लोग पानी चढ़ाते हैं और पूजा भी करते हैं । भगवान जगन्नाथ जी के माथे मै तुलसी चढ़ाए जाते हैं ,और तुलसी को बहत पवित्र माना जाता है । तुलसी को तुलसी इसलिए कहा जाता है की यह पवित्र होने के साथ साथ आयुर्वेद मै एसे किसी भी तरह का औसाधि नही है जो की तुलसी से तुलना कर सके । भारत मै 3 प्रकार की तुलसी पाई जाते हैं ।

1रामा तुलसी /श्री तुलसी – इनके पत्ते हरे रंग के होते हैं ।
2क्रीसना तुलसी /श्यामा तुलसी – इनके पत्ते जामुनी रंग के होते हैं ।
3वन तुलसी – इनके पत्ते गहरे हरे रंग के होते हैं ।

यह भी पढे (गर्म पानी पीने के फाईदे – No 1 Best Benifits of hot water )

अब हम बात करएंगे तुलसी के फाईदे के बारे मै : Benefits Of Tulsi – Tulsi ke Fayde

  • आज काल के जमाने मै अत्यधिक की पढ़ाई अत्यधिक करिअर के चिंता की वजह से साइकलाजिकल स्ट्रेस बढ़ जाता है जिसकी वजह से ऐंगज़ाइइटी , स्ट्रेस और डिप्रेशन की समस्या लागि रहती है । तुलसी की यह बड़े फाईदे होता है की तुलसी के अड़पटोजेन है जो की सीधा सीधा आप के शरीर मै कॉर्टिकोस्टेरोने को कम कर देता है और आप के मूड को अछे रखने मै मदत करता है । और आपके मूड सविंग्स और चिड़चिड़ापन को खतम कर देता है ।
  • तुलसी एक बहत ही नूटरोपिक होता है जिसकी वजह से आप का congnitive function जो होता है वो बेहतर हो जाता है । जेसे की आप आती सरल से बहत सारे काम एक साथ कर सकते हो , आप के मेमोरी यानि की आप के स्मरण शक्ति बृद्धि होने लगेगी । आप अछि तरह से चीजों को याद कर पाएंगे और अछे तरह से काम भी कर पाओगे ।
  • तुलसी लेने के और एक यह फाइदा है की जब आप सोते हो तब आप को बड़ी गहरी नींद आती है और जब आप जागते हो तब आप को एक दम तरोताजा महसूस करते हो , यानि सुबह को जागने के बाद जो आलस आता है वो आना बंद हो जाता है । Tulsi ke Fayde
  • जो लोग एंटी ऐंगज़ाइइटी और एंटी डिप्रेसन्ट लेते हैं उस के साथ साथ आप तुलसी भी लेना सुरू कर लीजिए आप को 3 महीने के अंदर अंदर आप को रिजल्ट दिखना सुरू हो जाएगी ।
  • अगर आप के दांत साढ़ जाते हैं , या फिर मुह पे छाले होना और साँसों मै बदबू आने जेसे समस्या होती है , तब तुलसी के पत्तों को एक दिन सूखा लीजिए और उसका पाउडर बना लीजिए । फिर अगले ही दिन ब्रश करते समय 1 ग्राम तुलसी पाउडर के साथ 1 ग्राम सरसों का तेल को मंजन कीजिए । जी हाँ इस मै बन तुलसी के पत्ते को इस्थमाल करे । आप को 5 दिन मै फरक दिखना आरंभ हो जाएगा । Tulsi ke Fayde
  • पेट के छोटीमोटी बीमारियाँ को ठीक करने मै तुलसी बहत मदत करता है ।
  1. गैस होना
  2. पेट मै दर्द होना
  3. जी मचलना
  4. उलटी आना
  5. दस्त
  6. खट्टी डकार
  7. छाती मै जलन होना
  8. gerd
  • तुलसी आप के लिवर की efficiency बढ़ा देती है । क्यूँ की तुलसी मै यह औसाधिया गुण है जो की मदत करता है । आज काल के हमारे फूड मै Processed foods , packaged foods ,preservatives, Industrial chemical ऐड है जो हर तरह से हमारे सेहत केलिए हानिकारक होता है । अगर आप तुलसी का सेबन करते हो तो यह आप के शरीर केलिए बहत फाईदेमंद होगा । Tulsi ke Fayde
  • किड्नी : तुलसी एक डाइयुरेटिक है जो की खून मै fluids , मिनेरल्स और uric acid को नियंत्रित करके रखता है । खून मै uric acid का बढ़ जाना किड्नी मै स्टोन होने का संभबना को बढ़ा देता है । अगर आप तुलसी का सेबन करते हैं तो जो स्टोन होने का संभबना होता है वो urine के साथ साथ निकल जाता है ।
  • तुलसी तीन तरह के लोगों केलिए बहत फाईदेमंद होता है जिन्हे डियाबेटिस हो , वो जिन्हे किसभी तरह का metabloic syndrome है और वो लोग जो प्रोटीन सुपलीमेंट लेते हैं ।
  • शरदी ,जुकाम और गले बैठ जाना मै भी यह बहत मदतगार होता है । Tulsi ke Fayde
  • अगर आप रोजाना तुलसी का सेबन करते हो तो serum cholesterol , Triglycerides ,phoospholipids और lowers LDL मै बहत मदत करता है ।
  • तुलसी आप के शरीर के आक्सिजन को consume करने की , इसे प्रोसेस करने की और इसी से एनर्जी निकाल लेने की काबिलियत को बहत ज्यादा बढ़ा देती है । और शरीर मै स्टामिना को बढ़ा देती है ।
  • दाद में फायदेमंद तुलसी का अर्क दाद और खुजली में तुलसी के अर्क के फायदे – तुलसी का अर्क अपने रोपण गुणों के कारण दाद और खुजली में लाभकारी होता है। यह दाद की खुजली को कम करता है, साथ ही घाव को तेजी से भरने में मदद करता है। तुलसी के अर्क का सेवन किया जाए तो यह अशुद्ध रक्त को शुद्ध करता है, रक्त शोधक (रक्त शोधक) यानी रक्त को शुद्ध करता है और त्वचा संबंधी समस्याओं को दूर करने में सहायक होता है। Tulsi ke Fayde
  • मासिक धर्म की अनियमितता में मासिक धर्म को नियमित करने के लिए तुलसी के बीज के फायदे – मासिक धर्म की अनियमितता शरीर में वात दोष के बढ़ने के कारण होती है। तुलसी के बीजों में वात को नियंत्रित करने का गुण होता है, इसलिए मासिक धर्म की अनियमितता में इसका उपयोग किया जा सकता है। तुलसी के बीज कमजोरी को दूर करने में सहायक होते हैं, जो मासिक धर्म के दौरान महसूस हुई कमजोरी को दूर करने में मदद करते हैं।
  • चोटों के इलाज में फायदेमंद है तुलसी -तुलसी का उपयोग घावों के लिए भी किया जाता है क्योंकि इसमें उपचार और सूजन-रोधी गुण होते हैं। तुलसी का यह गुण घाव भरने और सूजन में भी सहायक होता है।
  • हिंदी में चमक बढ़ाने के लिए फायदेमंद है तुलसी – तुलसी का उपयोग चेहरे की खोई हुई चमक को वापस लाने के लिए भी किया जाता है, क्योंकि इसमें सूखने और लगाने के गुण होते हैं। अपने खुरदुरे गुणों के कारण, यह चेहरे से त्वचा के अत्यधिक तैलीयपन को रोकता है, जिससे एक्ने और पिंपल्स को दूर करने में मदद मिलती है। यदि तुलसी का सेवन किया जाए तो इसके रक्त शुद्ध करने वाले गुणों के कारण अशुद्ध रक्त को शुद्ध करके चेहरे की त्वचा को निखारा जा सकता है। Tulsi ke Fayde
  • सर्पदंश पर तुलसी का प्रयोग – इसकी मंजरी और जड़ को 5-10 मिलीलीटर की मात्रा में तुलसी-पात्र-वरू पीसकर सर्पदंश वाली जगह पर लगाने से सर्पदंश के दर्द में आराम मिलता है। यदि रोगी बेहोश हो गया हो तो उसका रस नाक में टपकाते रहना चाहिए।

यह भी पढे (Weight loss Drinks – No 1 Best वैट लॉस ड्रिंक )

तुलसी की सामान्य खुराक : Tulsi ke Fayde

आमतौर पर तुलसी का सेवन नीचे दी गई मात्रा के अनुसार ही करना चाहिए। अगर आप किसी खास बीमारी के इलाज के लिए तुलसी का इस्तेमाल कर रहे हैं तो किसी आयुर्वेदिक डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

  • पाउडर: 1-3 ग्राम
  • स्वर: 5-10 मिली
  • केंद्रित अर्क: 0.5-1 ग्राम
  • निकालें: 0.5-1 ग्राम
  • क्वाथ चूर्ण : 2 ग्राम या चिकित्सक के परामर्शानुसार। Tulsi ke Fayde

तुलसी का पौधा कहाँ कहाँ उगाया जाता है : Tulsi ke Fayde

आप अपने घर के आंगन में तुलसी का पौधा भी लगा सकते हैं। आमतौर पर तुलसी के पौधे को किसी विशेष प्रकार की जलवायु की आवश्यकता नहीं होती है। इसे कहीं भी उगाया जा सकता है। एक धार्मिक मान्यता है कि तुलसी के पौधे की ठीक से देखभाल न करने या पौधे के चारों ओर गंदगी होने पर तुलसी का पौधा सूख जाता है। Tulsi ke Fayde

यह भी पढे (ग्रीन टी के फायदे – Benefits of green tea in Hindi – No 1 Best टिप्स )

तुलसी से जुड़े पतंजलि के उत्पाद और उनकी कीमत : Tulsi ke Fayde

पतंजलि आयुर्वेद तुलसी से संबंधित उत्पादों की एक विस्तृत विविधता बनाती है। उनमें से कुछ प्रमुख उत्पादों की सूची निम्नलिखित है।

  • तुलसी घनवती : 90 रुपये
  • तुलसी पंचांग का रस: 90 रुपये
तुलसी से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न – FAQS – Tulsi ke Fayde

1- क्या तुलसी के सेवन से बढ़ती है रोग प्रतिरोधक क्षमता?

आयुर्वेद के अनुसार तुलसी में औषधीय गुण होते हैं जो शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता (प्रतिरक्षा) को बढ़ाने में मदद करते हैं। यही कारण है कि आयुर्वेदिक चिकित्सक सर्दी के मौसम में या ऋतु परिवर्तन (मौसम में बदलाव) के दौरान तुलसी के सेवन की सलाह देते हैं। तुलसी के नियमित सेवन से शरीर जल्दी बीमार नहीं होता और कई मौसमी बीमारियों से लड़ने की क्षमता भी बढ़ती है। Tulsi ke Fayde

2- सर्दी-खांसी से राहत पाने के लिए कैसे करें तुलसी का इस्तेमाल?

अगर आप सर्दी के मौसम में अक्सर सर्दी-जुकाम से परेशान रहते हैं तो तुलसी की चाय का सेवन करें। तुलसी की चाय सर्दी और फ्लू के इलाज के लिए रामबाण है। आप चाहें तो सीधे बाजार से खरीद कर तुलसी की चाय का सेवन कर सकते हैं या फिर घर में बनी चाय में तुलसी की 3-4 पत्तियां मिलाकर इसका सेवन कर सकते हैं. इसके सेवन से सर्दी-खांसी के लक्षणों से शीघ्र राहत मिलती है। Tulsi ke Fayde

3- क्या तुलसी का काढ़ा COVID-19 को रोकने में कारगर है?

जैसा कि ऊपर बताया गया है कि तुलसी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करती है इसलिए ज्यादातर विशेषज्ञ रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और कोरोना वायरस से बचाव के लिए तुलसी का काढ़ा पीने की सलाह दे रहे हैं। भारत सरकार के आयुष मंत्रालय की ओर से जारी गाइडलाइन में भी कोविड-19 से बचाव के लिए हर्बल काढ़ा पीने की बात कही गई है. इस हर्बल काढ़े में मुख्य घटक के रूप में तुलसी होती है। तुलसी के काढ़े का सेवन कई अन्य वायरल संक्रमणों के उपचार में भी सहायक होता है।

4- सर्दियों में कैसे करें तुलसी की बूंदों का इस्तेमाल?

ज्यादातर लोगों, खासकर शहरों में, के घर में तुलसी का पौधा नहीं होता है, यही वजह है कि पिछले कुछ सालों में तुलसी की बूंदों का इस्तेमाल बढ़ने लगा है। तुलसी के औषधीय गुण प्राप्त करने का यह सबसे आसान तरीका है। एक कप पानी में तुलसी की एक या दो बूंद मिलाकर पीने से सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह सर्दी-जुकाम समेत कई बीमारियों के इलाज में मददगार है। Tulsi ke Fayde

5- घर पर कैसे बनाएं तुलसी का काढ़ा?

तुलसी का काढ़ा घर पर बनाना बहुत ही आसान है। इसके लिए दो कप पानी में कुछ तुलसी के पत्ते डाल दें और पानी को 10-15 मिनट या एक चौथाई पानी रह जाने तक उबालें। इसके बाद इसे छान लें और गुनगुना होने पर पी लें। यह काढ़ा रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने, सर्दी को दूर करने और कोविड-19 जैसी गंभीर बीमारियों से बचाव में मददगार है। Tulsi ke Fayde

6- सुबह तुलसी के पत्ते खाने के क्या फायदे हैं?

तुलसी के पत्तों का सेवन शरीर को कई बीमारियों से बचाता है। आयुर्वेद के अनुसार तुलसी के 4-5 ताजे पत्तों को सुबह-सुबह चबाकर खाना सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसके पत्तों के नियमित सेवन से खांसी, दमा, सर्दी आदि से संबंधित समस्याओं में राहत मिलती है, साथ ही मधुमेह और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। Tulsi ke Fayde

Leave a Comment