Spondylitis in Hindi – जाने क्या है स्पोंडिलोसिस की बीमारी और क्या इलाज – No 1 Best Information

Spondylitis in Hindi :

हमारी आधुनिक जीवन शैली में कुछ ऐसी बीमारियां हैं जो हमें लंबे समय तक नहीं छोड़ती हैं। जिनमें से एक है स्पोंडिलोसिस की बीमारी। स्पोंडिलोसिस को स्पॉन्डिलाइटिस भी कहा जाता है। स्पोंडिलोसिस दो ग्रीक शब्दों ‘स्पोंडिल’ और ‘इटिस’ से बना है। स्पोंडिल का अर्थ है कशेरुका और ‘इटिस’ का अर्थ है सूजन। इसमें पीड़ित को गर्दन को दाएं-बाएं और ऊपर-नीचे हिलाने में काफी दर्द होता है। स्पोंडिलोसिस आमतौर पर रीढ़ को प्रभावित करता है। स्पोंडिलोसिस रीढ़ में हड्डियों की असामान्य वृद्धि और कशेरुकाओं और उनके विस्थापन के बीच कुशन में कैल्शियम की कमी के कारण होता है।

आमतौर पर इसके शिकार पुरुष और महिलाएं होते हैं जिनकी उम्र 40 साल से ज्यादा होती है। आज की जीवनशैली में आए बदलाव के कारण लोग कम उम्र में ही स्पॉन्डिलाइटिस जैसी समस्याओं का शिकार हो रहे हैं। विशेषज्ञों का मानना ​​है कि इस समस्या का मुख्य कारण गलत मुद्रा है, जो मांसपेशियों पर दबाव डालता है। इसके अलावा शरीर में कैल्शियम की कमी एक और अहम कारण है।

एक दशक पहले के आंकड़ों की तुलना में इस बीमारी के मरीजों की संख्या तीन गुना बढ़ गई है। आईटी उद्योग या बीपीओ में काम करने वाले या कंप्यूटर के सामने अधिक समय बिताने वाले युवाओं को अधिक समस्या होती है। ऐसा अनुमान है कि हमारे देश में हर सातवां व्यक्ति गर्दन और पीठ दर्द या जोड़ों के दर्द से पीड़ित पाया जाता है।

स्पोंडिलोसिस के सिम्पटम्स – Spondylitis in Hindi

  • गर्दन या पीठ में दर्द और जकड़न।
  • यदि आपकी रीढ़ संकुचित है, तो आप अपने मूत्राशय या आंत्र पर नियंत्रण खो सकते हैं।
  • इस रोग का दर्द हाथ की उंगलियों से लेकर सिर तक हो सकता है। उंगलियां सुन्न होने लगती हैं।
  • कंधों, पीठ के निचले हिस्से और ऊपरी पैरों में कमजोरी और अकड़न।
  • कभी-कभी छाती में दर्द होता है और मांसपेशियों में सूजन आ जाती है।
  • स्पोंडिलोसिस का दर्द गर्दन से कंधों तक और वहां से बाजुओं, पीठ के निचले हिस्से और ऊपरी पीठ तक जा सकता है।
  • छींकने, खांसने और गर्दन की अन्य हरकतें इन लक्षणों को और गंभीर बना सकती हैं।
  • शारीरिक संतुलन गड़बड़ा सकता है और समय बीतने के साथ दर्द गंभीर हो जाता है।
  • स्पोंडिलोसिस की समस्या सिर्फ जोड़ों तक ही सीमित नहीं है।
  • यदि समस्या गंभीर है तो बुखार, थकान, उल्टी, चक्कर आना और भूख न लगना जैसे लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं।

स्पोंडिलोसिस होने की अहम वजह – Main Causes of Spondylitis​ in Hindi – Spondylitis in Hindi

  • स्पोंडिलोसिस का मुख्य कारण आहार में पोषक तत्वों, कैल्शियम और विटामिन डी की कमी के कारण हड्डियों का कमजोर होना है।
  • गलत तरीके से बैठने या खड़े होने से आपको स्पोंडिलोसिस की समस्या का सामना करना पड़ सकता है।
  • बढ़ती उम्र भी स्पोंडिलोसिस का एक अहम कारण है।
  • मसालेदार, ठंडी या बासी चीजें खाने से भी स्पोंडिलोसिस हो सकता है।
  • एक गतिहीन जीवन शैली आपको भविष्य में स्पोंडिलोसिस की समस्या दे सकती है।
  • ज्यादा देर तक गाड़ी चलाना भी खतरनाक साबित हो सकता है।
  • महिलाओं में अनियमित पीरियड्स भी स्पोंडिलोसिस का एक प्रमुख कारण बन सकता है।
  • उम्र के साथ हड्डी टूटना भी एक कारण है, अक्सर फ्रैक्चर के बाद भी हड्डी टूटने की स्थिति शुरू हो जाती है।

स्पोंडिलोसिस से राहत पाने के आसान तरीके – Home Remedies for Spondylitis​ in Hindi – Spondylitis in Hindi

  • काला नमक

सेंधा नमक में मैग्नीशियम की मात्रा अधिक होने के कारण यह शरीर के पीएच स्तर को नियंत्रित करता है और गर्दन की अकड़न और अकड़न को कम करता है।

  • सेंधा नमक स्नान

आधा गिलास पानी में दो चम्मच सेंधा नमक मिलाकर पेस्ट बना लें और इसे गर्दन के प्रभावित हिस्से पर लगाएं या रोजाना दो कप सेंधा नमक को गुनगुने पानी में मिलाकर नहाएं, इन दोनों तरीकों से आपको फायदा होगा। बड़ा मुनाफा हो

  • लहसुन

रोजाना सुबह खाली पेट कच्चा लहसुन पानी के साथ खाएं या फिर लहसुन को तेल में भूनकर गर्दन में मालिश करें, दर्द में काफी राहत मिलेगी। दरअसल, लहसुन में दर्द निवारक गुण होते हैं और यह सूजन को भी कम करता है।

  • हल्दी

असहनीय दर्द को दूर करने में हल्दी सबसे कारगर औषधि साबित हुई है। इतना ही नहीं यह मांसपेशियों में खिंचाव को भी ठीक करता है।

  • तिल के बीज

5 से 10 मिनट तक गर्म तिल के तेल से गर्दन की हल्की मालिश करें, फिर वहां गर्म पानी की एक पट्टी रखें, या आप एक गिलास गर्म दूध में एक चम्मच हल्दी मिलाकर पी सकते हैं, इससे गर्दन में दर्द और जकड़न से राहत मिलेगी। भी कम किया जाएगा। तिल के बीज कैल्शियम, मैग्नीशियम, मैंगनीज, विटामिन के और डी से भरपूर होते हैं, जो हमारी हड्डियों और मांसपेशियों के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक हैं। स्पोंडिलोसिस के दर्द में भी तिल बहुत कारगर होता है। Spondylitis in Hindi

आराम पाने के अन्य तरीके : Spondylitis in Hindi
  • पौष्टिक भोजन करें, खासकर ऐसा भोजन जो कैल्शियम और विटामिन डी से भरपूर हो।
  • चाय और कैफीन का सेवन कम करें। Spondylitis in Hindi
  • चलने की कोशिश करें, यह हड्डियों के द्रव्यमान को बढ़ाता है और शारीरिक रूप से सक्रिय रहता है।
  • नियमित रूप से व्यायाम और योग करें।
  • हमेशा आरामदायक बिस्तर पर ही सोएं। इस बात का ध्यान रखें कि बिस्तर न ज्यादा सख्त हो और न ही ज्यादा मुलायम। Spondylitis in Hindi
  • स्पोंडिलोसिस से पीड़ित लोगों को गर्दन के नीचे या पैरों के नीचे तकिया रखने की आदत से बचना चाहिए। Spondylitis in Hindi

Leave a Comment