स्त्री खतना khatna क्या है – फाइदा नुकसान No 1 Best टिप्स

स्त्री खतना khatna क्या है :

खतना आमतौर पर पुरुषों के लिए किया जाता है। यह मुस्लिम धर्म में ‘पाकी’ के नाम से किया जाता है, जिसे वैज्ञानिकों ने इस आधार पर लाभकारी भी बताया है कि इससे कई खतरनाक बीमारियों से बचा जा सकता है। लेकिन लड़कियों का खतना एक खास समुदाय में ही प्रचलित है, जिसके कई दुष्परिणाम भी देखने को मिले हैं, जिससे इसे रोकने की मांग जोर-शोर से चल रही है ।

स्त्री खतना : स्त्री खतना khatna क्या है

यह प्रथा बोहरा मुस्लिम समुदाय में है, जिसमें बचपन में ही महिलाओं के गुप्तांग काट दिए जाते हैं। दरअसल वह अंग ही महिला के मासिक धर्म और प्रसव पीड़ा को कम करता है। कुछ महिलाएं लड़की के हाथ और पैर पकड़ती हैं और एक महिला चाकू या ब्लेड से अपना क्लिटोरल हुड काट देती है। खून से लथपथ बच्ची महीनों से दर्द से कराह रही है. कई बार इससे लड़कियों की मौत भी हो जाती है।

महिला खतना अफ्रीका महाद्वीप में प्रचलित है : स्त्री खतना khatna क्या है

महिलाओं के खतने की यह अत्यंत क्रूर, दर्दनाक और अमानवीय अति प्राचीन प्रथा, अफ्रीका महाद्वीप के मिस्र, केन्या, युगांडा, इरिट्रिया जैसे बीस देशों में सदियों से यह परंपरा चली आ रही है। इस प्रथा का सबसे पहला विवरण रोमन साम्राज्य और मिस्र की प्राचीन सभ्यता में मिलता है। मिस्र के संग्रहालयों में ऐसे अवशेष हैं जो इस प्रथा की पुष्टि करते हैं।

क्रूरता के पीछे का कारण: स्त्री खतना khatna क्या है

अफ्रीका में युवा लड़कियों की शादी तभी की जाती है जब उनका बचपन में खतना हो गया हो, क्योंकि वहां की लड़कियों का खतना उनके कौमार्य और पवित्रता का प्रमाण माना जाता है। लड़कियों के खतना के लिए एक संकीर्ण मर्दाना मानसिकता जिम्मेदार होती है, जिसके कारण लड़की कम उम्र में अपने प्रेमी के साथ सेक्स नहीं कर पाती है।

एक विशेष समुदाय, जो उत्तरी मिस्र को अपना मूल मानता है, महिला खतना को अपनी परंपरा और पहचान मानता है। समुदाय इस्माइली शिया समुदाय का एक उप-समुदाय है, जो पूरी दुनिया के साथ-साथ पश्चिमी भारत और पाकिस्तान में बड़ी संख्या में रहते हैं, यही वजह है कि पश्चिमी भारत और पाकिस्तान के कुछ हिस्सों में महिला खतना जारी है। है।

कुछ जगहों पर खतना को प्रथागत माना जाता है: स्त्री खतना khatna क्या है

कहीं-कहीं तो यह रिवाज बन गया है कि रिवाज के नाम पर छोटे-छोटे कट लगाए जाते हैं। जिसमें कहा गया है कि दर्द नहीं होता है क्योंकि यह बाहरी हिस्से पर एक कट होता है। इस दिन खतना के नाम पर कार्यक्रम रखा जाता है। कट लगाकर बस कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है।

इस्लामी शास्त्रों में महिला खतना का उल्लेख नहीं है : स्त्री खतना khatna क्या है

मुसलमानों के प्रामाणिक इस्लामी धर्मग्रंथों में महिला खतना का कोई उल्लेख नहीं है। वहां पुरुष खतना और उसके गुणों पर विस्तार से चर्चा की गई है। खतना या सुन्नत यहूदियों और मुसलमानों के बीच एक अनिवार्य धार्मिक संस्कार है। इस विशेष अनुष्ठान के तहत लड़के के जन्म के कुछ दिनों से लेकर चार से पांच साल तक उसके लिंग के सामने की चमड़ी को हटा दिया जाता है। यह एक दर्दनाक लेकिन आवश्यक प्रक्रिया है। अब डॉक्टर कई घरों में यह काम करते हैं।

खतना का वैज्ञानिक पक्ष : स्त्री खतना khatna क्या है

शिकागो स्थित बाल रोग विशेषज्ञों के इस कथन का आधार वैज्ञानिक प्रमाण है, जिसके आधार पर यह स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है कि जिन बच्चों का खतना हुआ है उनमें कई रोग होने की संभावना कम हो जाती है। इनमें मूत्र पथ के संक्रमण, विशेष रूप से छोटे बच्चों में, पुरुषों में जननांग कैंसर, यौन संचारित रोग, एचआईवी और मानव पेपिलोमा वायरस (एचपीवी), गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर का एक कारण शामिल हैं।

गैर-मुसलमानों का भी खतना होता है : स्त्री खतना khatna क्या है

मुस्लिम धर्म में पुरुष खतना को सेहत के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। जो अब न सिर्फ कई बीमारियों से बचाता है बल्कि पुरुषों की सेक्स पावर क्षमता को भी बढ़ाता है। यही कारण है कि दुनिया भर में कई गैर-मुसलमान भी अपना खतना करवाते हैं।

तो फ़्रेंड्स आशा करता हूँ की आप को इस आर्टिकल मै पूरी जानकारी मिली होगी । और कुछ जानकारी चाहिए तो कमेन्ट करके बता सकते हैं । और एसे बहत सारे मेडिसन , बीमारी और उसकी इलाज का इनफार्मेशन साइट पे उपलब्ध है । आप साइट विज़िट करके देख सकते हैं । अगर आप को इस आर्टिकल अच्छा लगा हो तो आप कमेन्ट करके बता सकते हैं और शेयर कर सकते हैं ।

Leave a Comment